आज है वतन के लोगों को खुले मे साँस दिलाने वाले वीरों की सहादत का दिन

देश विशेष स्टोरी

23 मार्च सिटी तहलका :- रिपोर्ट , जितेंद्र अहलावत

सरदार भगत सिंह, एक ऐसा नाम जिसे सुनते ही हम हिन्दुस्तानियों के रगों में देशभक्ति का खून दौड़ने लगता है। एक ऐसा जांबाज वीर योद्धा जिसने मात्र २३ साल की उम्र में अंग्रेजों के दांत खट्टे कर दिए और अपने आप को देश के लिए बलिदान कर दिया। 23 मार्च 1931 की रात भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु की देश-भक्ति को अपराध की संज्ञा देकर फांसी पर लटका दिया गया। कहा जाता है कि मृत्युदंड के लिए 24 मार्च की सुबह तय की गई थी लेकिन किसी बड़े जनाक्रोश की आशंका से डरी हुई अँग्रेज़ सरकार ने 23 मार्च की रात को ही इन क्रांति-वीरों की जीवनलीला समाप्त कर दी। रात के अँधेरे में ही सतलुज के किनारे इनका अंतिम संस्कार भी कर दिया गया। ‘लाहौर षड़यंत्र’ के मुक़दमे में भगतसिंह को फाँसी की सज़ा दी गई थी तथा केवल 24 वर्ष की आयु में ही, 23 मार्च 1931 की रात में उन्होंने हँसते-हँसते, ‘इनक़लाब ज़िदाबाद’ के नारे लगाते हुए फाँसी के फंदे को चूम लिया। भगतसिंह युवाओं के लिए भी प्रेरणा स्रोत बन गए। वे देश के समस्त शहीदों के सिरमौर थे | अभी तक उनको शहीद का दर्जा भी दिया गया

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *