फिर बढ़ी एकता की उम्मीद दुष्यंत के रूख पर निगाह

म्हारा हरियाणा राजनीति

जननायक जनता पार्टी द्वारा मनाए जाने वाला सम्मान दिवस समारोह महम की बजाए अब रोहतक में 22 सितंबर को मनाया जाएगा । यह जानकारी देते हुए जननायक जनता पार्टी के नेता दुष्यंत चौटाला ने पानीपत में बताया कि चौधरी देवीलाल के जन्मदिवस पर मनाया जाने वाला यह समारोह अब 25 की बजाए 22 सितम्बर को मनाया जाएगा । जबकि इंडियन नेशनल लोकदल पार्टी द्वारा पूर्व घोषित सम्मान दिवस रैली कैथल में ही आयोजित की जाएगी।
इसके कारण भले ही कुछ और रहे हों लेकिन राजनीतिक पंडितों का मानना है कि दुष्यंत चौटाला द्वारा महम समारोह की तारीख में फेरबदल करना बेवजह नहीं है । कहा जा रहा है कि बसपा से गठबंधन टूटने के बाद दुष्यंत चौटाला के तेवर ढीले पड़े हैं ।
क्योंकि जिस प्रकार से सर्व खाप पंचायत एकता के प्रयास कर रही है और अभय चौटाला ने अपनी वीटो पावर सर्व खाप पंचायत को दे दी थी

हालांकि दुष्यंत ने यह स्पष्ट भी कर दिया था कि उनके परिवार के बड़े सरदार प्रकाश सिंह बादल का फैसला उन्हें मंजूर होगा । कयास लगाए जा रहे हैं कि पूर्व घोषित तारीख में बदलाव करके एकता के रास्ते के सभी कांटो को साफ किया जा रहा है। राजनीतिक विशेषज्ञों का मानना है कि पिछले साल गोहाना में जो घटनाक्रम हुआ था उसका आरोप दुष्यंत चौटाला पर मंढा जाता है। यह माना जाता है गोहाना रैली में ही परिवार के बिखराव की तहरीर लिखी गई थी। बिखराव के बाद चाहे दुष्यंत हो या अभय चौटाला उन्हे महसूस कराया जा रहा है कि इस बिखराव ने कितना राजनीतिक व सामाजिक नुक्सान उन्हे पंहुचा दिया है। इस नसीहत के साथ तेज गति से एकता के सूत्र आगे बढाए जा रहे हैं। ऐसे मे यदि यह मुमकिन हुआ तो क्षतिपूर्ति भी दुष्यंत चौटाला को ही करने के लिये कहा जा सकता है। इस उपक्रम में 25 सितंबर को कैथल में होने जा रही इनेलो की रैली में दुष्यंत चौटाला को लाए जाने की कोशिशे यदि सिर चढ गई तो जाहिर है कि कैथल में होने वाले चौ. देवी लाल के सम्मान दिवस पर बिछड़ा हुआ यह परिवार फिर से एकजुट हो कर चुनावी समीकरणों में गर्मी पैदा कर सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *