शहीद राजेश पुनिया का पार्थिव शरीर उनके पैतृक गांव पहुँचा || मंत्री कृष्ण पंवार ने दी श्रद्धांजलि

करनाल देश म्हारा हरियाणा विशेष स्टोरी सामाजिक

 

21 अगस्त ,कैथल।

हरियाणा के परिवहन मंत्री कृष्ण पंवार ने आज अपनी पूर्व निर्धारित व्यस्तताओं को रद्द करते हुए 6 राज राईफल के शहीद राजेश कुमार के पैतृक गांव भागल में पहुंचकर तिरंगे में लिपटे शहीद राजेश पुनिया के पार्थिव शरीर पर पुष्प चक्र अर्पित कर हरियाणा सरकार की तरफ से श्रद्धांजलि दी तथा शोक संतप्त परिवार के प्रति अपनी गहरी संवेदनाएं व्यक्त की। शहीद राजेश पुनिया का आज गांव भागल में राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया, जो जम्मु-कश्मीर के द्रास व कारगिल के बीच स्थित काकसर स्थान पर18 हजार फुट की ऊंचाई पर तैनात थे।

शहीद का पार्थिव शरीर भागल गांव पहुंचा शहीद राजेश कुमार अमर रहे के नारे गुंजाएमान होते रहे।

शहीद राजेश कुमार 18 अगस्त को मौसम खराब होने की वजह से पैर फिसलकर गिरने से शहीद हो गए थे। नियंत्रण रेखा के समीप डियूटी पर तैनात सैनिकों की मृत्यु पर उन्हें शहीद का दर्जा दिया जाता है। जैसे ही शहीद का पार्थिव शरीर भागल गांव पहुंचा तो आकाश में शहीद राजेश कुमार अमर रहे के नारे गुंजाएमान होते रहे। शहीद के भाई रामफल ने उन्हें मुखाग्नि दी। कृष्ण पंवार ने गुहला के विधायक कुलवंत बाजीगर, उपायुक्त सुनीता वर्मा, पुलिस अधीक्षक आस्था मोदी, जिला भाजपा अध्यक्ष अशोक गुर्जर ढांड के साथ शहीद के पार्थिव शरीर पर पुष्प चक्र अर्पित कर श्रद्धांजलि दी। कृष्ण पंवार ने शहीद की माता कृष्णा देवी एवं पिता भाग सिंह पुनिया को सांत्वना देते हुए कहा कि हरियाणा सरकार हमेशा उनके परिवार के साथ खड़ी रहेगी।

शहीद के परिवार को से  50 लाख रुपए तथा  सरकारी नौकरी । 

उन्होंने शहीद के परिवार को हरियाणा सरकार की तरफ से 50 लाख रुपए तथा परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा वीर गति को प्राप्त होने वाले सैनिकों के परिवारों को दी जाने वाली एक्सग्रेसिया ग्रांट को 50 लाख रुपए किया गया है। अब तक राज्य सरकार ने आजादी के बाद हुए युद्धों तथा देश की आतंरिक सुरक्षा के लिए आतंकवादियों से मुठभेड़ में वीर गति को प्राप्त होने वाले हरियाणा के 221 शहीदों के आश्रितों को विभिन्न विभागों में सरकारी नौकरियां दी गई। कृष्ण पंवार ने कहा कि ऐसे वीर शहीदों के पराक्रम व बलिदान पर हमें गर्व है तथा ऐसे रण बांकुरों के साहस व हिम्मत के आगे हम सभी नतमस्तक होकर शीश झुकाते हैं। ऐसे योद्धाओं का बलिदान का इतिहास भावी पीढि़यों को भी हमेशा प्रेरणा देता रहेगा।

  • शहीद राजेश कुमार

राजेश कुमार की शहादत पर गर्व महसूस करते हुए कहा

हरियाणा के वीर हमेशा देश सेवा में आगे रहे हैं तथा सेना में हर दसवां सैनिक हरियाणा से है। पेहवा से भागल गांव तक हर गांव में ग्राम वासी सड़कों पर तिरंगे के साथ शहीद को नम आंखों से श्रद्धांजलि देने के लिए दोपहर से ही सड़कों के दोनों किनारे खड़े थे। शहीद राजेश कुमार अमर रहे के गगन भेदी नारों के बीच पेहवा से भागल तक की सड़क पर पड़ने वाले सभी गांवों के लोग अपने कामकाज छोड़कर शहीद के स्वागत में उमड़ पड़े। शहीद के परिजनों में भाई रामफल,ताऊ अजमेर सिंह, बलबीर सिंह, बीरा, मियां सिंह ने भी शहीद राजेश कुमार की शहादत पर गर्व महसूस करते हुए कहा कि राजेश कुमार ने देश सेवा के लिए सर्वोच्च बलिदान दिया है।

शहीद राजेश कुमार की माता श्रीमती कृष्णा देवी ने कहा कि

उन्हें अपने बेटे की देश पर शहादत के लिए गर्व है तथा वह अपने दूसरे बेटे को भी देश सेवा के लिए सेना में भेजने के लिए तैयार है। शहीद राजेश कुमार सेना में सिपाही के पद पर तैनात था सेना एवं पुलिस की टुकड़ी द्वारा शहीद को गार्ड आफ ऑनर दिया गया। इस अवसर पर पूर्व राज्यसभा सांसद ईश्वर सिंह, धर्मपाल डागर, पूर्व मुख्य संसदीय सचिव दिल्लु राम बाजीगर, उपमंडलाधीश संजय कुमार, नायब सूबेदार भूप सिंह, मांगे राम जिंदल, ईश्वर सीड़ा सहित भागल गांव तथा आसपास के गांवों के हजारों व्यक्ति शहीद राजेश कुमार के संस्कार में शामिल हुए तथा उन्हें नम आंखों से श्रद्धांजलि दी।मविधायक कुलवंत बाजीगर, डीसी सुनीता वर्मा, एसपी आस्था मोदी,भाजपा जिला अध्यक्ष अशोक गुर्जर ढांड व सेना अधिकारी रहे मौजूद।


by

सिटी तहलका डेस्क 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *