पी एम नरेंद्र मोदी ने हर बार मनाई है दिल्‍ली से बाहर दिवाली, जानें कब-कहां ,वर्ष 2015 को छोड़कर

देश पानीपत म्हारा हरियाणा विशेष स्टोरी सामाजिक

जब से मोदी ने प्रधानमंत्री का पद संभाला है तभी से वह दिवाली का पावन त्‍योहार दूसरी जगहों पर लोगों के बीच मनाते आए हैं। इस बार भी इसको लेकर कयास लगाए जा रहे हैं। की मोदी दीवाली को महत्वपूर्ण स्थान पर मनाएंगे

नई दिल्ली । देश भर में बड़े ही हर्ष व् उल्लास से मनाये जाने वाले रोशनी के पर्व दीपावली को लेकर हर जगह तैयारियां या तो खत्‍म हो चुकी हैं या फिर अंतिम चरण में है। हर किसी ने इस बार आतिशबाजी पर लगी बंदिशों के बाद भी काफी कुछ सोचा हुआ है। लेकिन एक सवाल सभी के मन में रह-रह कर जरूर आ रहा होगा कि आखिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस बार कहां दिवाली मनाएंगे। आपको बता दें कि जब से मोदी ने प्रधानमंत्री का पद संभाला है तभी से वह दिवाली का पावन त्‍योहार दूसरी जगहों पर लोगों के बीच मनाते आए हैं। इस बार भी इसको लेकर कयास लगाए जा रहे हैं। कहा जा रहा है कि इस बार पीएम मोदी चीन से लगती सीमा पर जवानों के बीच मनाएंगे। यदि ऐसा होता है तो यह तीसरी बार होगा कि जब पीएम सीमा पर जवानों के साथ अपनी दिवाली मनाएंगे। लेकिन अभी तक इस पर सरकारी मुहर नहीं लगी है। बहरहाल, इन कयासों से अलग हम आपको ये बता देते हैं कि आखिर अपने पीएम के कार्यकाल में नरेंद्र मोदी ने आखिर कब और कहां इस त्‍योहार को मनाया।

वर्ष 2014

जिस वक्‍त नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री पद संभाला उसी दौरान जम्‍मू कश्‍मीर के लोगों को भीषण आपदा का सामना करना पड़ा था। इसी वजह से पीएम ने अपने कार्यकाल में पहली दिवाली भी इन्‍हीं लोगों के बीच श्रीनगर में मनाई थी। उन्‍होंने इसको लेकर एक ट्वीट भी किया था।

वर्ष 2015

अयोध्या राम जन्मभूमि विवाद : 1993 के बाद अब बदली हुई है ‘जमीन’
यह भी पढ़ें
पीएम मोदी के कार्यकाल में अब तक केवल 2015 का ही एक वर्ष ऐसा रहा है जब वह दिवाली के अवसर पर कहीं नहीं गए। उन्‍होंने ट्वीट कर देशवासियों को इस पर्व की बधाई दी।

वर्ष 2016

इस वर्ष पीएम मोदी ने अपनी दिवाली हिमाचल प्रदेश में चीन से लगती भारतीय सीमा पर तैनात जवानों के साथ मनाई। वह इसके लिए कुन्‍नूर के समडो इलाके में पहुंचे थे। उन्‍होंने यहां पर तैनात आईटीबीपी के जवानों को इस पर्व की बधाई दी और उन्‍हें अपने हाथों से मिठाई भी खिलाई। इस मौके पर दिए अपने भाषण में उन्‍होंने कहा कि वह वर्ष 2001 से ही दिवाली जवानों के साथ मनाते आ रहे हैं। इस मौके पर उन्‍होंने #Sandesh2Soldiers campaign का भी जिक्र किया। उनका कहना था कि उनकी सरकार ने वर्षों से जवानों की उस मांग को मान लिया है जिसके तहत वन रैंक वन पेंशन की बात कही जा रही थी। इस मौके पर तत्‍कालीन जनरल दलबीर सिंह भी उनके साथ थे। सीमा से वापसी के दौरान पीएम मोदी ने वहां नजदीक के गांव छांगों में जाकर वहां के स्‍थानीय लोगों से मुलाकात की और उन्‍हें दिवाली की बधाई दी।

वर्ष 2017

इस वर्ष पीएम मोदी ने जम्‍मू कश्‍मीर के गुरेज सेक्टर में तैनात बीएसएफ जवानों के साथ अपनी दिवाली मनाई थी। इस मौके पर पीएम मोदी ने अपने हाथों से जवानों को मिठाई खिलाई और उन्‍हें इस पर्व की बधाई भी दी। वह यहां पर करीब दो घंटे तक रुके। उनका कहना था कि वह चाहते थे कि दिवाली उन वीर जवानों के साथ मनाई जाए जो हर हाल में सीमा पर डटकर देशवासियों की रक्षा करते हैं।

Posted By: प्राण रतनाकर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *