दबंगों की धमकी से परेशान हो 6 परिवारों ने छोड़ा घर।। आरोप, पुलिस कार्रवाई में बरत रही लापरवाही 

देश विशेष स्टोरी सामाजिक सोनीपत
सोनीपत, 15 अगस्त।

सोनीपत के गन्नौर के गांव शेखुपरा में  दबंगों की दबंगई से परेशान होकर एक ही परिवार के 6 घरों के सभी सदस्यों द्वारा अपने घरों पर ताला जड़ गांव से पलायन करने का सनसनी खेज मामला सामने आया है। परिवार ने इस मामले में दबंगों के खिलाफ कार्रवाई किए जाने में भी पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाया है। उनका कहना है कि एक ओर तो दंबग उन पर जानलेवा हमला कर उन्हें बार-बार धमकी दे रहे हैं, वहीं पुलिस भी उन्हीं के साथ मिली है। ऐसे में उनका गांव में रहना दुश्वार हो गया था। अखिरकार उन्होंने गांव से पलायन करने का निर्णय लिया है।

पीड़ित परिवार के सदस्यों का आरोप है कि उनके गांव का ही एक दबंग परिवार उनसे रंजिश रखते हुए कई बार हमला कर चुका है। इस बारे में हर बार पुलिस को शिकायत दी गई, लेकिन कोई ठोस कार्रवाई नहीं की गई। पुलिस हर बार उनका समझौता करवा कर कार्रवाई बंद कर देती थी। पुलिस के ढूलमूल रवैये के चलते दबंगो ने करीब 2 सप्ताह पहले उन पर जानलेवा हमला किया था। जिसमें परिवार तीन सदस्य गंभीर रूप से घायल हो गए। इस बार पुलिस ने मामला दर्ज भी कर लिया, लेकिन सख्त कार्रवाई न होने के चलते आरोपी जमानत पर बाहर आ गए। आते ही वे उन्हें फिर से जान से मारने की धमकी देने लगे। जिसके चलते परिवार के सभी सदस्य अपने सभी छह घरों में ताला लगा कर गांव छोड़ने को मजबूर हो गए।

दीपावली पर शुरू हुआ था झगड़ा 

पीड़ित परिवार के सदस्य अग्रेजो, बंटी, जगदीश आदि ने बताया कि उनका झगड़ा दीपावली पर शुरू हुआ था। जिसके बाद दूसरे पक्ष ने पुलिस में उनके खिलाफ पुलिस को झूठी शिकायत दी, लेकिन बाद में पुलिस व ग्रामीणों ने उनका समझौता करवा दिया। लेकिन उसके बाद कई बार वे उनके परिवार पर हमला कर चुके हैं। जिससे परेशान होकर वे गांव को छोड़ने पर मजबूर हुए हैं। उन्हें अब गांव में जाने से भी डर लगता है। परिवार के सभी सदस्यों ने पुलिस पर लापरवाही बरतने के भी आरोप हैं।

28 जुलाई को किया था जानलेवा हमला
गन्नौर थाना प्रभारी देवेंद्र कुमार से बातचीत की गई तो उन्होंने कहा कि पुलिस द्वारा मामले में कार्रवाई की गई है। 4 लोगों को गिरफ्तार किया गया था। जिन्हें कोर्ट की तरफ से जमानत मिल चुकी है।
गन्नौर थाना प्रभारी देवेंद्र कुमार से बातचीत की गई तो उन्होंने कहा कि पुलिस द्वारा मामले में कार्रवाई की गई है। 4 लोगों को गिरफ्तार किया गया था। जिन्हें कोर्ट की तरफ से जमानत मिल चुकी है।

पीड़ित परिवार के सदस्य विकास ने बीती 28 जुलाई को पुलिस में शिकायत दी थी कि उसका भाई सुधीर व उसकी बहन बंटी दोनों बाइक पर सवार होकर ड्यूटी के लिए निकले थे। गली में कुछ दूर जाने के बाद रास्ते में पहले से घात लगाए बैठे उनके पड़ोसी राकेश, अनिल, सुनील व प्रिंस ने उनकी बाइक रूकवा कर उन पर तेजधार हथियार व लाठी डंडों से जानलेवा हमला कर दिया। इस दौरान जब उनकी ताई अग्रंजो उन्हें बचाने के लिए पहुंची तो हमलावरों ने उस पर हमला कर घायल कर दिया। पुलिस ने मामला दर्ज कर आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया था। लेकिन अदालत से भी उन्हें जमानत मिल गई।

जब इस बारे में गांव के सरपंच सुंदर से बातचीत की गई तो उन्होंने कहा कि गांव में दीपावली में किसी बात को लेकर झगड़ा शुरू हुआ था। दोनों परिवारों को समझाया गया था। दोनों परिवारों में समझौते के बाद विवाद रुक गया था। लेकिन बाद में फिर विवाद शुरू हो गया, लेकिन विवाद बहुत ज्यादा बढ़ रहा है। परिवार से गांव ना छोड़ने की अपील की गई थी, लेकिन परिवार ने फिर भी गांव छोड़ दिया है।जब इस पूरे मामले में गन्नौर थाना प्रभारी देवेंद्र कुमार से बातचीत की गई तो उन्होंने कहा कि पुलिस द्वारा मामले में कार्रवाई की गई है। 4 लोगों को गिरफ्तार किया गया था। जिन्हें कोर्ट की तरफ से जमानत मिल चुकी है। वहीं परिवार को गांव छोड़ना और दोबारा झगड़े की कोई शिकायत उनके पास नहीं पहुंची है। अगर इस बारे में कोई शिकायत मिलती है तो इस पर भी कार्रवाई की जाएगी।


by

कविता किट्टू
सिटी तहलका

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *