हड़ताल के दौरान काम करने वाले युवकों ने फिर की स्थाई रोजगार और मेहनताने की मांग।

पानीपत विशेष स्टोरी

 7 जुलाई पानीपत ।

लगभग महीना भर पहले पानीपत में सफाई कर्मियों ने हड़ताल की थी ।यह हड़ताल काफी दिन तक चलती रही थी। सभी शहरवासियों को इस हड़ताल के दौरान बेहद परेशानियों का सामना करना पड़ा था।जगह-जगह कूड़े के ढेर लग गए थे।गलियों और बाजारों से निकलना भी दूभर हो गया था। हालांकि बाद में प्रशासन और सफाई कर्मियों में बातचीत से सहमति बन गई थी और हड़ताल समाप्त हो गई थी। लेकिन हड़ताल के दौरान शहरवासियों को राहत देने के लिए निगम प्रशासन की ओर से कुछ युवाओं को सफाई के काम पर लगाया गया था।

 

नौजवानों का कहना है कि हड़ताल के दौरान उन्होंने शासन प्रशासन की लाज रखी थी और 10 दिन तक काम किया था। उनका यह भी कहना है काम पर रखने से पहले उन्हें आश्वासन दिया गया था कि बाद में सभी को स्थायी काम दिया जाएगा। इसी से सभी ने दिन रात काम कर पानीपत की गंदगी को दूर किया था । इन लोगों का आरोप है कि हड़ताल समाप्त होने के बाद उन सभी को काम से हटा दिया गया। जिससे वे बेरोजगार हो गए हैं। साथी उनका यह भी कहना है कि जो 10 दिन उनसे से काम करवाया गया था। उसका भी कोई मेहनताना उन्हें नहीं दिया गया इससे इन नौजवानों में काफी रोष है।

उनके अनुसार वे कई बार डीसी और नगर निगम कमिश्नसे मिल चुके हैं लेकिन अभी तक उनकी समस्या का कोई समाधान नहीं हुआ ।उनका कहना है कि उन्हें विधायकों के माध्यम से काम पर लगाया गया था। इसलिए सोमवार से यह सभी सफाई कर्मचारी विधायकों के घर पर सफाई का काम शुरु करेंगे। पहले भी उन्होंने निशुल्क काम किया था और अब भी निशुल्क काम करेंगे जब तक उनकी समस्या का कोई समाधान नहीं होता। अपनी इसी समस्या को लेकर उन्होंने शनिवार को नगर निगम कमिश्नर से मुलाकात की ।इस अवसर पर कुलदीप पंकज रिंकू संदीप सहित काफी संख्या में युवा उपस्थित रहे।


by

  मनोज कुमार 

  सिटी तहलका

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *