आॅफिस में घुस उद्योगपति प्रमोद गुप्ता की दिनदहाड़े गोली मार कर हत्या। 2 बदमाशों दिया घटना को अंजाम 

पानीपत डायर्स एसोसिएशन के सरपरस्त थे गुप्ता, गन पाॅइंट पर लेकर लूटना चाहा था पैसा, फैक्टरी वर्करों ने दोनों बदमाशों को दबोचा 
पानीपत विशेष स्टोरी
पानीपत, 10 अगस्त।

पानीपत के औद्योगिक सेक्टर, सेक्टर 29-पार्ट 2 में बुधवार को उस समय हड़कंप मच गया, जब 2 हथियार बंद बदमाशों ने बेखौफ दिनदहाड़े एक उद्योगपति एवं दि पानीपत डायर्स एसोसिएशन के सरपरस्त प्रमोद गुप्ता के आॅफिस में घुसकर उनकी गोली मारकर हत्या कर दी। घटना के समय प्रमोद गुप्ता का बेटा भी कार्यालय में ही मौजूद था। घटना से पहले प्रमोद गुप्ता वर्करों की सेलरी बांटने के लिए बैंक से रूपये लेकर आए थे। घटना शाम करीब 5 बजे की है। बदमाशों द्वारा गोली चलाने की आवाज सुनते ही फैक्टरी में काम कर रहे वर्करों ने दोनों बदमाशों को घटना स्थल पर भागते हुए दबोच लिया और दोनों की जमकर धुनाई की।

बताया जाता है कि इनमें एक बदमाश की हालत गंभीर है। बदमाशों ने प्रमोद गुप्ता के गले पर गोली मारी, जिससे वे लहूलुहान होकर वहीं पर गिर पड़े। उनके बेटे व अन्य वर्कर उन्हें तत्काल शहर के 2 निजी अस्पतालों में ले गए, अस्पतालों के डाॅक्टरों ने उन्हें सिविल अस्पताल रेफर कर दिया, जहां डाॅक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। बताया जाता है कि हमलावरों में एक बदमाश प्रमोद गुप्ता का पुराना वर्कर था और उसकी मालिक से कोई पुरानी रंजिश थी, जिसको लेकर उसने इस घटना को अंजाम दिया। परिजनों की मानें तो आज वर्करों को सेलरी दी जानी थी, इसलिए प्रमोद गुप्ता और उनका बेटा बैंक से पैसा निकालकर लाए थे। घटना की सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और पकड़े गए दोनों बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने मामला दर्ज कर घटना की जांच शुरू कर दी।

ऐसे किया बदमाशों ने हमला

जानकारी के अनुसार पानीपत के माॅडल टाउन निवासी प्रमोद गुप्ता की सेक्टर 29-पार्ट 2 स्थित प्लाॅट नंबर 230 में नवदुर्गा डाईहाउस के नाम से फैक्टरी है। बुधवार शाम करीब 5 बजे वे अपने बेटे के साथ कार्यालय में बैठे थे इसी दौरान अचानक उनके कार्यालय में करीब 18 से 20 वर्षीय 2 बदमाश पहुंचे। उन्होंने जाते ही पिस्तौल दिखाकर प्रमोद गुप्ता से पैसों की डिमांड की। प्रमोद गुप्ता ने अलमारी से पैसे निकालकर उनके सामने रख दिए। लेकिन उनमें से एक बदमाश ने इसके बाद भी प्रमोद गुप्ता पर गोली चला दी। गोली सीधे उनके गले में लगी। गोली लगते ही प्रमोद गुप्ता लहूलुहान हालत में वहीं पर गिर गए। जबकि उनके साथ बैठा उनका बेटे ने मेज के नीचे छिपकर जान बचाई। गोली की आवाज सुनकर फैक्टरी में काम कर रहे वर्कर तत्काल अपने मालिक के आॅफिस में पहुंचे। उन्होंने देखा कि उनके मालिक प्रमोद  गुप्ता लहुलुहान हालत में नीचे गिरे पड़े हैं तो उन्होंने तुरंत उन्हें उठाया और गाड़ी में डाल उनके बेटे के साथ गंभीर हालत में शहर के 2 निजी हास्पिटलों में ले गए। जहां डाॅक्टरों ने उनकी नाजुक हालत को देखते हुए उन्हें तत्काल सिविल अस्पताल रेफर कर दिया। सिविल अस्पताल में पहुंचने के बाद डाॅक्टरों ने उनको चैक किया, लेकिन तब तक उनकी मौत हो चुकी थी।

वर्करों ने दोनों बदमाशों को घटना स्थल पर दबोच की जमकर धुनाई

बताया जाता है कि जब दोनों बदमाश घटना को अंजाम देकर भाग रहे थे तो वर्करों ने दोनों को वहीं पर दबोच लिया। इसके बाद उन्होंने दोनों की जमकर धुनाई की। सूचना है कि इनमें एक बदमाश की पिटाई के बाद हालत गंभीर है। पुलिस ने दोनों को अपने कब्जे में लेकर जांच शुरू  दी थी।

व्यापारियों ने बताया घटना को दुभाग्यपूर्ण
पानीपत डायर्स एसोसिएशन के सरपरस्त थे गुप्ता, गन पाॅइंट पर लेकर लूटना चाहा था पैसा, फैक्टरी वर्करों ने दोनों बदमाशों को दबोचा
पानीपत डायर्स एसोसिएशन के सरपरस्त थे गुप्ता, गन पाॅइंट पर लेकर लूटना चाहा था पैसा, फैक्टरी वर्करों ने दोनों बदमाशों को दबोचा

घटना की सूचना मिलते ही शहर के सैकड़ों उद्योगपति और व्यापारी सिविल अस्पताल में पहुंचे। सभी ने इस घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए पुलिस से हमलावरों को कड़ी सजा देने की मांग की। उनका कहना था कि विनोद गुप्ता की दिनदहाड़े उनके कार्यालय में हुई हत्या से शहर के उद्योगपति और व्यापारी अपने आप को असुरक्षित महसूस कर रहे हैं। उन्होंने पुलिस विभाग के उच्चाधिकारियों से औद्योगिक सेक्टरों में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम करने की मांग की।

6 से 12 तक होता है सेलरी बांटने का समय, पुलिस इस दौरान करे सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम

दि पानीपत डायर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष भीम राणा ने इस घटना पर अफसोस जताया है। उनका कहना है कि उन्होंने पुलिस विभाग से कई बार मांग की है कि 6 से 12 तारीख तक औद्योगिक सेक्टरों में वर्करों की सेलरी बांटने का समय होता है। बदमाश इसी दौरान अक्सर लूट की घटनाओं को अंजाम देने की फिराक में लगे रहते हैं। इसके मद्देनजर पुलिस को सेक्टरों सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम करने चाहिए, लेकिन पुलिस ने इस ओर ध्यान नहीं दिया। जिसका खामियाजा बुधवार को उनकी एसोसिएशन के सरपरस्त प्रमोद गुप्ता को जान देकर भुगतना पड़ा। अभी भी वक्त है, पुलिस इस ओर ध्यान दे। अगर पुलिस ने इसके बाद भी कोई कार्रवाई नहीं की तो बदमाश और भी घटनाओं को अंजाम दे सकते हैं। इस घटना से उद्योगपतियों और व्यापारियों में दहशत का माहौल है। एसोसिएशन सरपरस्त प्रमोद गुप्ता की मौत पर उनकी आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना करती है। इस दुख की घड़ी में एसोसिएशन उनके परिवार के साथ है।

आरोपी गिरफ्तार, खानपुर में चल रहा दोनों का इलाज 

उप पुलिस अधीक्षक मुख्यालय श्री जगदीप सिंह दून ने मामले की विस्तृत जानकारी देते हुए बताया कि आज साय सैक्टर-29 पार्ट टू में स्थित दुर्गा डाईग हाउस फैक्टरी में लूट की नियत से घूसकर व्यवसायी प्रमोद गुप्ता की गोली मारकर हत्या करने के मामले में दोनो आरोपियो को सीआईए-टू पुलिस टीम ने काबू कर लिया है। प्रारंम्भिक पूछताछ मे आरोपियों ने अपनी पहचान कमल व सूरज के रूप में बताई। गिरफतार दोनो आरोपी पुलिस कस्टडी मे खानपुर पीजीआई में है।

उन्होंने बताया कि आरोपी कमल फैक्टरी मे पहले कार्य करता था। जो करीब दो महीने पहले की फैक्टरी से काम छोड़कर गया था । इसलिए आरोपी कमल को जानकारी थी की फैक्टरी मे कर्मचारीयो को वेतन का भुगतान कब किया जाता है। डीएसपी जगदीप सिंह दून ने बताया कि मृतक व्यवसायी प्रमोद गुप्ता के बेटे अंकुर गुप्ता कि शिकायत पर दोनो आरोपियों के खिलाफ थाना चांदनी मे भा.द.स की धारा 302, 34 व 25-54-59 आर्म्स एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज कर कानूनी कार्यवाही अमल मे लाई गई। सीआईए-टू पुलिस टीम ने मामले की गहनता से जांच आरंभ कर दी है ।
[


by

अजय राजपूत, प्रदीप रेढ़ू
सिटी तहलका

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *