प्रधान सचिव नीरजा ने किया अंधविद्यालय में औचक निरीक्षण, यू-ट्यूब चैनल चलाने पर दी एक विद्यार्थी को शाबासी 

andh vidya panipat
पानीपत विशेष स्टोरी

सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग की प्रधान सचिव नीरजा शेखर ने मंगलवार को पानीपत के राजकीय अन्ध विद्यालय एवं दिव्या स्पेशल स्कूल का औचक निरिक्षण किया। इस दौरान सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग की निदेशक गौरी पराशर जोशी व उपायुक्त सुमेधा कटारिया भी उनके साथ रहीं। उन्होंने छात्र और छात्राओं के छात्रावास का निरिक्षण किया। बच्चों से उनकी समस्याएं जानी और छात्रों से भी संवाद किया। नीरजा शेखर ने कहा कि अन्ध विद्यालय में मूलभूत सुविधाओं और व्यवसायिक कोर्सो को बढ़ाने के लिए प्रयास किए जाएंगे और शिक्षा के स्तर को और अधिक बेहतर बनाया जाएगा। इसके लिए उन्होंने अध्यापकों के सुझावों को अंग्रेजी माध्यम को सशक्त करने के लिए हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड से संवाद करने के लिए भी कहा।

andh vidya panipat

उन्होंने कहा कि इस बारे शिक्षा बोर्ड से बात की जाएगी। उन्होंने कहा कि परम्परागत चीजों से छात्रों का मोह भंग हो रहा है। इसलिए कुछ नये रचनात्मक कोर्सो को लाने के लिए पहल की जाएगी। अध्यापकों ने बताया कि अंधविद्यालय के विद्यार्थी पहले कुर्सी भरने इत्यादि का काम बड़ी रूचि के साथ करते थे। अब इस समय वे तकनीकी कोर्सों में ज्यादा दिलचस्पी ले रहे हैं। नीरजा शेखर ने अध्यापकों से कहा कि साइंस और गणित विषय को दिलचस्प बनाने और इसके प्रति बच्चों का रूझान पैदा करने के भी टिप्स मांगे। अध्यापकों ने कहा कि प्रेक्टिकल करने के चलते बच्चे विज्ञान संकाय नहीं ले पाते। इसके साथ ही -साथ हर किताब ब्रेल लिपि में नहीं है। इसके चलते भी उन्हें किताब पढ़ने में दिक्कत होती है। नीरजा शेखर ने कहा कि इसके लिए वे और बेहतर प्रयास करेंगी ताकि साइंस और गणित विषय भी ब्रेल लिपि में आ सके। गौरी पाराशर जोशी ने सुझाव दिया कि बच्चें किताबों को ब्रेल लिपि में ट्रांसलेट भी कर सकते हैं और इसे व्यावसायिक तौर पर भी अपनाया जा सकता है। क्योंकि बे्रल लिपि में अनुवाद की गई किताबें विशेष तौर पर फायदेमंद हो सकती हैं।

आधुनिक संगीत से जुड़े वाद्य-यंत्र भी कराए जाएंगे उपलब्ध 

andh vidya panipat

विद्यालय के प्रधानाचार्य ने प्रधान सचिव नीरजा शेखर के समक्ष समस्याएं रखते हुए कहा कि विद्यालय के छात्रावास में नियमित तौर पर महिला वार्डन की जरूरत है। उन्होंने कहा कि जो अध्यापक विशेष तौर पर कोर्स करने के लिए जाते हैं, उन्हें अवकाश लेकर जाना पड़ता है। जबकि यह विभागीय कोर्स होते हैं और इनकी अनुमति मुख्यालय स्तर पर दी जाती है। यह अनुमति अगर तत्काल रूप से मिले तो अवकाश नहीं लेने पड़ेगे। नीरजा शेखर ने कहा कि इस समस्या को दूर कर दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि विद्यालय में संगीत के उपकरणों की संख्या में भी बढ़ोतरी की जाएगी और आधुनिक संगीत से जुड़े वाद्य-यंत्रों को विद्यालय में लाया जाएगा। प्रधानाचार्य ने कहा कि विद्यालय के बाहर बनी हुई डिस्पेंसरी में नियमित तौर पर चिकित्सक की सुविधा भी उपलब्ध करवाई जाए ताकि बच्चों को समय पर चिकित्सा उपलब्ध हो सके। इस पर उपायुक्त सुमेधा कटारिया ने कहा कि वे इस बारे में जल्द ही आईएमए से बात करके यहां पर डाक्टर उपलब्ध करवाएंगे। बच्चों को प्रतिदिन सुबह-शाम योगाभ्यास भी करवाते रहे ताकि बच्चे बीमार न होने पाएं।

मैस और महिला छात्रावास का भी किया निरीक्षण, विद्यार्थी राजेन्द्र ने कहा-चलाता है खुद का यू-ट्यूब चैनल 

प्रधान सचिव नीरजा शेखर ने विद्यालय की मैस और महिला छात्रावास का भी दौरा किया। उन्होंने विद्यार्थियों से भी बातचीत की। एक विद्यार्थी राजेन्द्र ने उन्हें बताया कि वह अपना खुद का यू-ट्यूब चैनल चलाता है। जिस पर मौके पर ही नीरजा शेखर ने मोबाइल से उस यू-ट्यूब चैनल को खोलकर देखा तो उन्होंने उसे शाबासी दी। उन्होंने विद्यार्थियों से आगे बढने और जीवन में अपना भविष्य संवारने को लेकर भी बातचीत की। उन्होंने कहा कि सभी बच्चें मेहनत के साथ और व्यक्तिगत रूचि लेकर पढ़े। डीसी सुमेधा कटारिया ने भी प्रधान सचिव नीरजा शेखर के समक्ष बच्चों को मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध करवाने के लिए अनुरोध किया। नीरजा शेखर ने कहा कि अंध विद्यालय को लेकर सभी बातें उनके संज्ञान में है। बजट की किसी भी तरह से कोई परेशानी नहीं रहेगी। बच्चों के अच्छे भविष्य के लिए प्रयास किए जाएंगे। इस मौके पर विभाग की उपनिदेशक नीरा मलिक भी उपस्थित रही।


by
सिटी तहलका
नीरज कुमार  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *