पानीपत में सब्जी, दूध और फल न बेचे बेचें किसान, भाकियू प्रधान सुरेश दहिया ने की किसानों से अपील 

kissan hadtal panipat
कृषि पानीपत विशेष स्टोरी सामाजिक

भाकियू प्रधान सुरेश दहिया ने कहा कि किसानों का हर तरफ शोषण हो रहा है। 1 जून से 10 जून तक हड़ताल जारी रहेगी, इस दौरान न तो जिले किसान अपनी सब्जियों को लेकर मंडी नहीं आएंगे और न ही फल और दूध बेचेंगे। इसमें सभी भाकियू सदस्य सहयोग दें। उन्होंने कहा कि भाकियू का राष्ट्रीय चिंतन शिविर हरिद्वार में 16 से लेकर 18 जून तक लगाया जा रहा है। जिसमें किसानों की समस्याओं पर चिंतन किया जाएगा। दहिया ने जिलेभर के भाकियू सदस्यों से अपील करते हुए कहा कि जिस भी सदस्य को हरिद्वार जाना है, वो 15 जून शाम 7 बजे तक किसान भवन में आ जाएं।

उन्होंने यह भी कहा कि पानीपत का नया शुगर मिल लगाने के लिए मुख्यमंत्री ने करीब ढाई साल पहले गांव डाहर में नए मिल की नींव रखी थी, पर ढाई साल बीतने पर भी वहां पर निर्माण के नाम पर एक ईंट भी नहीं लगी। जिससे स्पष्ट है कि सरकार गन्ना उत्पादक किसानों के प्रति कितनी गंभीर है। दहिया ने कहा कि किसानों का हर तरफ शोषण हो रहा है 1 जून से 10 जून तक हड़ताल जारी रहेगी। भारतीय जनता पार्टी ने सरकार बनने से पहले ही वायदा किया था, अगर वह सत्ता में आएगी तो सभी किसानों के कर्ज माफ होंगे। स्वामी नाथन आयोग की रिपोर्ट लागू होगी। ऐसा कुछ भी नहीं हुआ। आज किसान आत्महत्या कर रहे हैं और सरकार वादों के अलावा और कुछ नहीं करती। यह किसानों और सरकार की आर-पार की लड़ाई होगी।

वे शनिवार को भारतीय किसान यूनियन की पानीपत के किसान भवन में आयोजित मासिक बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। जिसमें किसानों की समस्याओं पर विचार-विमर्श किया गया। वहीं भाकियू पदाधिकारियों ने सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि सरकार किसानों की सभी समस्याओं का जल्द समाधान करे नहीं तो भाकियू किसानों के साथ सड़क पर उतर कर धरना-प्रदर्शन करने पर मजबूर होगी। दहिया ने कहा कि पानीपत में किसानों की जली हुई गेहूं की फसल का मुआवजा किसानों को देने को लेकर भाकियू ने 10 मई को उपायुक्त के माध्यम से मुख्यमंत्री मनोहरलाल के नाम ज्ञापन सौंपा था, पर आज तक इस बारे में प्रशासनिक अधिकारियों व सरकार द्वारा कुछ नहीं किया गया। वहीं पिछले वर्ष जली किसानों की गेहूं की फसल का मुआवजा भी किसानों को नहीं मिला है। इस अवसर पर प्रताप माजरा, ऋषिपाल नांदल, प्रेम देशवाल, संदीप मलिक रिसालु, दलबीर मतलौडा, बिजेंद्र इसराना, रामकुमार समालखा, गुल्लू चैहान सनौली, सुंदरपाल बापौली, मा. ईश्वर सिंह, दया सिंह पावटी, राजबीर मलिक आदि मौजूद रहे।


by
नीरज कुमार
सिटी तहलका 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *