पानीपत में महिला चोर गिरोह की 3 सदस्य चढ़ी दुकानदारों के हत्थे, पुलिस को सौंपा, मास्टरमाइंड सहित 2 बोलेरो में बैठकर फुर्र 

पानीपत विशेष स्टोरी

पानीपत में लंबे समय से सक्रिय महिला चोर गिरोह की तीन सदस्यों को दबोचने में दुकानदारों को उस समय कामयाबी मिल गई, जब गिरोह की महिलाएं सेक्टर 25 में दोबारा चोरी की वारदात को अंजाम देने पहुंची और दुकानदारों ने उन्हें पहचान लिया। दुकानदारों की मानें तो ये महिला चोर गिरोह बकायदा ठाठ-बाट के साथ बुलेरो गाड़ी से चोरी करने पहुंचता है। दो-तीन महिलाएं गाड़ी के अंदर रहती हैं, जबकि इतनी ही चोरी करने के बहाने दुकानों और शोरूमों में दाखिल हो जाती हैं। ये दुकानों में स्टाफ को नशीला पदार्थ सुंघाकर बेहोश करती हैं, उसके बाद दुकान का माल थैलों में भरकर दुकानदार को चकमा देकर निकल जाती हैं। उनका दावा है कि गिरोह की महिलाएं शहर में करीब डेढ़ साल में चोरी की 4 वारदातों को अंजाम दे चुकी हैं। दुकानदारों ने तीनों चोर महिलाओं को पकड़कर थाना चांदनी बाग थाना पुलिस को सौंप दिया। जबकि मास्टरमाइंड सहित दो बोलेरो में बैठकर भाग जाने में कामयाब हो गईं। इस बारे में सिटी तहलका ने थाना प्रभारी सुरेश सैनी से बात की तो उनका कहना था कि दुकानदारों ने तीन महिलाओं को चोरी करते रंगे हाथों पकड़ा है। जिनके खिलाफ मामला दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी गई है। गिरोह की अन्य महिलाओं को भी जल्द ही पकड़ लिया जाएगा।

दोबारा आने का कर रहे थे दुकानदार इंतजार  

जानकारी के अनुसार पिछले काफी समय से पानीपत में महिला चोर गिरोह का आतंक फैला हुआ था। ये गिरोह बड़ी ही ठाठ-बाट के साथ बोलेरो गाड़ी से दुकानों और बड़े शोरूमों में पहुंचकर चोरी की वारदातों को अंजाम देता था। यह गिरोह 2017 से अब तक सेक्टर 25 सहित चांदनी बाग थाना क्षेत्र के अंतर्गत 4 दुकानों और शोरूमों में चोरी कर चुका था। पीड़ित दुकानदारों ने चोरी की शिकायत चांदनी बाग थाना में दे रखी थीं। चोरी की घटनाओं के बाद सभी दुकानदार उनके दोबारा आने की प्रतीक्षा में थे कि गिरोह दोबारा यहां आए और वे उन्हें पकड़ लें। आखिरकार बुधवार को यह कामयाबी सेक्टर-25 के दुकानदारों को मिल गई। गिरोह की सदस्य यहां दोबारा चोरी करने पहुंची थीं। सिटी तहलका से बातचीत में दुकानदारों ने बताया कि गिरोह की सदस्य एक बोलेरो गाड़ी में भरकर आती थीं। आज भी वे बोलेरो से ही आईं थीं, लेकिन इनमें से वे ही पकड़ में आ सकीं जो चोरी करने दुकान में घुसी थीं। उनके पकड़े जाने के बाद गाड़ी में बैठी गिरोह की अन्य सदस्य भाग जाने में कामयाब हो गईं।

ऐसे देती थीं महिला चोर वारदात को अंजाम 

चोर गिरोह की ये महिलाएं दुकान पर पहुंचती हैं और नशीली चीज सुंघाकर दुकान में काम कर रहे लोगों को बेहोश करके करीब 70 से 80 हजार के रेडिमेड कपड़े लेकर फरार हो जाती हैं। इन महिलाओं की तस्वीरें दुकानों में लगे सीसीटीवी कैमरों में कैद हो जाती हैं। जब तक दुकानदार सीसीटीवी कैमरों को जांचते हैं तब तक ये महिलाएं दुकान से माल लेकर फरार हो चुकी होती हैं। अपने कैमरों की फुटेज देखकर पीड़ित दुकानदार अब अलर्ट हो गए थे। वे इसी ताक में थे कि ये महिलाएं दोबारा यहां चोरी करने आएं तो वे इन्हें पकड़ लें।

अब तक इन दुकानों में कर चुकी हैं ये महिलाएं चोरी 
  • पहली बार यह महिला चोर गिरोह चोरी के वारदात को अंजाम देने 29 सितंबर, 2017 को उझा रोड स्थित साईं मंदिर के पास चरण सिंह की राणा गारमेंट्स के नाम से मौजूद दुकान पर पहुंची। इन्होंने आते ही बातों-बातों में उनकी पत्नी रेनू को कोई नशीली चीज सुंघाकर बेहोश कर दिया। इसके बाद दुकान में रखा करीब 80 हजार के कपड़े, नगदी आदि चुराकर रफू-चक्कर हो गईं।

  • दूसरी बार इन महिलाओं ने 28 अप्रैल 2018 को सेक्टर 25 स्थित सरदार जी गारमेंट्स पर हाथ साफ किया। बातों-बातों में इन महिलाओं ने दुकान से 40-50 पैंट और शर्ट चुराकर ले गईं। इसका पता उन्हें बाद में सीसीटीवी कैमरे से लगा, जिसमें चोरी करते इनकी तस्वीर कैद हो गई।

 

  • तीसरी वारदात को गिरोह की महिलाओं ने उझा रोड पर ही 15 मई 2018 को जय माता दी गारमेंट्स में अंजाम दिया। यहां भी उन्होंने पहले दुकानदार को कोई नशीली चीज सुंघाई और दुकानदार के बेहोश होने पर दुकान में रखे 25-30 सूट चुराकर ले गईं।

  • चैथी वारदात को अंजाम देने के लिए पांच-छह महिला चोर 6 जून यानि बुधवार दोपहर करीब 2 बजे सेक्टर 25 स्थित अर्थ गारमेंट्स पर पहुंच गईं। उस समय दुकान पर मालिक की पत्नी मौजूद थीं। महिलाओं ने सूट देखने के बहाने कुछ सूट चोरी कर लिए, लेकिन पत्नी ने उन्हें सूट चोरी करते देख लिया। इनमें से तीन महिलाओं को दुकानदारों ने मौके पर पकड़ लिया, जबकि बाकी बाहर खड़ी बोलेरो से भाग जाने में कामयाब हो गईं। पकड़ी गई तीनों महिलाओं के पास से मौके पर ही 7 जींस बरामद हुईं।


by
प्रदीप रेढ़ू, मनोज कुमार 
सिटी तहलका

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *