पानीपत कष्ट निवारण समिति की बैठक सम्पन्न ।। फिर पुराने अंदाज में नजर आए मंत्री विज।।

पानीपत राजनीति विशेष स्टोरी सामाजिक
31 अगस्त,पानीपत।

स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने शुक्रवार को लघु सचिवालय के द्वितीय तल के सभागार में जिला कष्ट निवारण समिति की बैठक की  अध्यक्षता करते हुए कहा कि कार्यालयो में आने वाले लोगो के कार्य को सकारात्मकता के साथ हल करें। कई बार सरकारी प्रक्रिया में देरी हो जाती है लेकिन आमजन का सरकारी तंत्र पर विश्वास बनाने के लिए आप सभी को उनकी मदद तत्परता के साथ करनी चाहिए। बैठक में पानीपत ग्रामीण विधायक महिपाल ढांडा, शहरी विधायक रोहिता रेवड़ी, समालखा विधायक रविन्द्र मच्छरोली ,भाजपा के पूर्व प्रधान गजेन्द्र सलूजा, उपप्रधान सुनील सोनी, भाजपा के जिला महामंत्री देवेन्द्र दत्ता मुख्य रूप से मौजूद रहे। कष्ट निवारण समिति की बैठक में कुल 15 शिकायते पटल पर रखी गई  जिनमें से स्वास्थ्य मंत्री अनिल बिज ने 12 समस्याओ का मौके पर ही समाधान किया, तीन समस्याएं अगली बैठक के लिए लंम्बित रखी गई।

बैठक में पहली शिकायत स्थानीय जाटल रोड निवासी सुभाष गोस्वामी की थी, जिस पर मंत्री अनिल विज ने एसपी मनबीर सिंह को इनका बच्चा ढूढने के लिए इसमें और तेजी लाकर कार्यवाही करने के आदेश दिए। दूसरी शिकायत बिमला पत्नी रामशरण निवासी जसबीर कालोनी नूरवाला द्वारा की गई थी इस मामले दोनो पक्षो का समझौता होने पर इसका समाधान कर दिया गया है। तीसरी शिकायत जोकि राजबाला पत्नी राममेहर, निवासी गांव लोहारी द्वारा की गई थी। इसका भी समाधान कर दिया गया। चौथी शिकायत सोनू पुत्र कश्मीरी लाल निवासी नूरवाला द्वारा नाली को बनाकर गली को खुलवाने को लेकर थी इसका भी अधिकारियो द्वारा समाधान कर दिया गया। शिकायत न0 5 जोकि स्थानीय विधायक रोहिता रेवाडी द्वारा दी गई थी इस मामले मेे कोर्ट में स्टे होने पर मंत्री अनिल विज ने आदेश दिए कि प्रशासन की ओर से इस मामले की कोर्ट में पूरी पैरवी की जाए। छटी शिकायत हुकम सिंह निवासी गांव जाटल की थी,

इस शिकातय को भी अगली बैठक के लिए लम्बित रखा गया है। सातवीं शिकायत तसबीर सिंह कुण्डु बिशनस्वरूप कालोनी द्वारा दी गई थी। इस मामले में दीवार गिराने वाले व्यक्तियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के निर्देश दिए गए। आठवीं शिकायत संदीप पुत्र रामसिंह गांव मनाना द्वारा गांव के सरपंच के खिलाफ भ्रष्टाचार को लेकर दी गई थी, इसके विषय में स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने  सरपंच के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के आदेश दिए।  नौवीं शिकायत महेन्द्रहंस गांव आसन्नकलां की थी जिस पर मंत्री ने सम्बङ्क्षधत अधिकारी को दिशा-निर्देश देकर इसकी जांच करवाने के लिए कहा। दसवीं शिकायत प्रवीण छौक्कर निवासी गांव पटटी कल्यिाणा द्वारा दी गई थी जिस पर समालखा के यूएचबीवीएन के कार्याकारी अभियन्ता ने बताया कि फर्जी क् नैकशन के मामले में सम्बधित कर्मचारी को निलंबित कर दिया गया है वहीं डीसी रेट पर लगे कर्मचारी को हटा दिया गया है।

ग्याहरवीं शिकायत इन्द्रसिंह निवासी गांव कालखा द्वारा बिजली विभाग से सम्बधित दी गई थी। इसका भी समाधान कर दिया गया है। बारहवीं शिकायत बलबीर पुत्र हरबंस गांव भैंसवाल की थी, जो कि फैक्टरी से निकल रहे गंदे पानी की वजह से फसल के नष्ट होने के बारे में थी। इस पर स्वास्थ्य मंत्री ने अतिरिक्त उपायुक्त को इस मामले की एनओसी, ईटीपी व फैक्टरी सम्बन्धी अन्य जांच करने के आदेश दिए हैं। इस शिकायत के सम्बन्ध में प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के आर.ओ. को अनियमितताओ के दृष्टिगत निलङ्क्षबत करने के आदेश दिए हैं। तेहरवीं शिकायत सुभाष पुत्र भीमसिंह गांव डाहर की थी, इस शिकायत पर कार्याकारी अभियन्ता ने बताया कि सुभाष पुत्र भीम सिंह ने दो पोल लगवाने के लिए विभाग ने 14 हजार रूपये जमा करवाए थे। जिसे वापिस उनके खाते में विभाग द्वारा जमा करवा दिया गया है और विभाग के सम्बधित कर्मचारी को चार्ज सीट करने के लिए उच्च अधिकारियो को लिख दिया गया है।  चौदहवीं शिकायत धर्मपाल निवासी जौरासी रोड समालखा द्वारा की गई थी जिसका समाधान कर दिया गया है। यह शिकायत गली बनाने को लेकर थी। यह गली डी प्लान के तहत बनवाने के निर्देश दिए गए। पन्द्रहवीं शिकायत कुसुम पत्नी रवी कुमार निवासी हरिनगर की थी, जिनका मौके पर समाधान कर दिया गया है। इस अवसर पर उपायुक्त सुमेधा कटारिया, पुलिस अधीक्षक मनबीर सिंह, अतिरिक्त उपायुक्त सुजान सिंह, नगर निगम कमीशनर प्रदीप डागर, एसडीएम पानीपत विवेक चौधरी, एसडीएम समालखा गौरव कुमार, सीटीएम शशि वसुन्धरा के अतिरिक्त अन्य विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।


by

सिटी तहलका डेस्क

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *