सेक्टर 6 में खुला पड़ा कई फिट गहरा मेन हाॅल।। विभाग आज तक नहीं देख पाया    

पानीपत विशेष स्टोरी
पानीपत, 30 जुलाई।

पानीपत के सेक्टर 6 से सेक्टर 7 को जोडने वाले मुख्य रास्ते पर बीचों बीच कई महीनों से सीवर का एक मेन हाॅल पूरी तरह खुला पड़ा है। यह करीब 10 फिट से भी गहरा है। आज तक विभाग के किसी भी अधिकारी और और कर्मचारी की नजर इस खुले मेन हाॅल की तरफ नहीं पहुंच पाई है। लगता है एचएसवीपी और निगम के अधिकारी सेक्टरों की दयनीय दशा और खुले पड़े मेन हाॅल्स की ओर ध्यान देना ही भूल गए हैं। सेक्टर के लोगों ने कई बार विभागीय कर्मचारियों से इस मेन हाॅल को बंद कराने के लिए कहा है, लेकिन आज तक किसी ने भी इस ओर ध्यान नहीं दिया। इससे साफ जाहिर है कि विभाग को किसी बड़े हादसे का इंतजार है।

सेक्टवासियों ने सिटी तहलका को दी सूचना
सेक्टरवासी मदनलाल बत्ता और जितेंद्र ओझा ने बताया कि जिस जगह ये करीब 10 फिट गहरा मेन हाल खुला पड़ा है,
सेक्टरवासी मदनलाल बत्ता और जितेंद्र ओझा ने बताया कि जिस जगह ये करीब 10 फिट गहरा मेन हाल खुला पड़ा है,

सेक्टर 6 निवासी मदनलाल बत्ता, जितेंद्र ओझा समेत कई लोगों ने इस बारे में सिटी तहलका को सूचित किया। तहलका टीम ने मौके पर पहुंचकर इस खुले मेन हाॅल को देखा और विभागीय अधिकारियों को हादसों को दावत देती इस लापरवाही को कैमरे में कैद किया। सेक्टरवासियों ने सिटी तहलका को बताया कि न तो इस ओर हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण का ही कोई अफसर और कर्मचारी आकर देखता है और ना ही निगम अधिकारियों को इस सेक्टर की समस्याओं से कोई लेना-देना है। सेक्टर में सीवर के मेन हाॅल ही नहीं वरन सेक्टर की ज्यादातर सड़कें हल्की बरसात में ही तालाब बन जाती हैं। अभी तक सेक्टर की कई मुख्य सड़के ऐसी हैं, जिनकी हालत बेहद दयनीय है।

खुले मेन हाॅल से सटा है बच्चों के खेल का मैदान

सेक्टरवासी मदनलाल बत्ता और जितेंद्र ओझा ने बताया कि जिस जगह ये करीब 10 फिट गहरा मेन हाल खुला पड़ा है, उसके साथ ही मैदान है। जिसमें प्रतिदिन सैकड़ों बच्चे खेलते हैं। चूंकि मेन हाॅल सेक्टर 6 व 7 के चैक के साथ लगा है। शाम होते ही ये खुला मेन हाॅल लोगों को दिखना बंद हो जाता है, जिससे कभी भी कोई हादसा होने का अंदेशा बना रहता है। यहीं से कई वाहन भी गुजरते हैं। सेकटरवासियों की मांग है कि इस खुले मेन हाल की समस्या का जल्द निवारण कराया जाए, जिससे समय रहते कोई बड़ा हादसा होने से बच सके।


by

मनोज कुमार, नवीन कुमार
सिटी तहलका

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *