इस शातिर ने खुद को डॉक्टर बता एबीबीएस डाॅक्टर समेत कई लड़कियों से रचाई शादियां, आटोमोबाइल शोरूम्स और ज्वेलर्स को लगाया लाखों का चूना, पुलिस ने धर-दबोचा

nakli doctor delhi
करनाल देश पानीपत म्हारा हरियाणा रोहतक विशेष स्टोरी सामाजिक

दिल्ली से खबर है कि पश्चिमी दिल्ली के दो थानों की पुलिस ने संयुक्त आॅपेरशन चलाकर एक ऐसे शातिर व्यक्ति को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है, जिसने खुद को डाॅक्टर बताकर न सिर्फ एक एबीबीएस डाॅक्टर समेत कई कई लड़कियों से शादी रचाई बल्कि कई राज्यों के शोरूम्स से नकली ड्राफ्ट के जरिये कई लग्जरी गाड़ियां खरीदीं और कई ज्वेलर्स को लाखों रूपये का चूना लगा दिया। बता दें कि यह आरोपी शातिर एक हवालदार पर गोली चलाने के बाद पकड़ा गया। पुलिस के मुताबिक आरोपी फैनटेस्टिक-4 नाम से अपना गैंग चला रहा था, जिसका वह खुद चीफ था।

nakli shaddi delhi

पश्चिमी दिल्ली के डीसीपी विजय कुमार के अुनसार आरोपी ने अपने कमई नाम रखे हुए थे, जिनके सहारे वह अलग-अलग क्षेत्रों में पहुंचकर अलग-अलग नामों से लड़कियों को फंसाता था और ठगी करता था। पूछताछ के दौरान उसने अपने नाम मनीष, वरुण कौल, आशुतोष मारवाह, डॉ. विशेष धीमान और डॉ संजीव चड्ढा बताए। इतना ही नहीं, इस ठगी में उसके पिता भी नाम बदलकर उसका पूरा साथ देते थे। पुलिस के सामने उसके पिता के बृज भूषण कौल, डॉ. भूषण, कमाडंर कौल, कमांडर कपिल चड्ढा और राजेंद्र पाल नाम सामने आए। पुलिस का कहना है कि सिर्फ बाप-बेटे ही नहीं, बल्कि परिवार के अन्य सदस्य भी उनकी इसमें पूरी मदद करते थे।

डीएसपी विजय कुमार ने बताया कि प्रशिक्षु एसीपी संध्या, कीर्ति नगर थाना प्रभारी अनिल शर्मा और मोती नगर थाना पुलिस ने   मनीष को पकड़ने में सफलता हासिल की। बताया जाता है कि मनीष उस समय पकड़ा गया जब उसने पुलिस आप्रेशन के तहत हवलदार अजय पर फायर कर दिया था। पुलिस ने उसका पीछा किया और मानसरोवर गार्डन से उसे धर-दबोचा। पुलिस का कहना है कि गैंग के सरगना मनीष के खिलाफ के खिलाफ दिल्ली ही नहीं अपितु चंडीगढ़, गोवा और पंजाब में धोखाधड़ी के करीब 60 मामले दर्ज हैं। उसकी पत्नी डॉ. रितु ने जान से मारने की कोशिश सहित कई और शिकायत की थी। शिकायत में डाॅ. रितु ने मनीष पर आरोप लगाया था कि मनीष ने उसे एक मेट्रीमोनियल वेबसाइट के माध्यम से संपर्क किया था। उसके बाद बहका-फुसलाकर उसके साथ शादी कर ली। जिसके बाद उसके एक बच्चा भी पैदा हुआ। उसका ये भी आरोप था कि शादी के कुछ दिन बाद ही मनीष और उसका पिता मिलकर उस पर दहेज लाने के लिए उत्पीड़ित करने लगे, विरोध करने पर दोनों ने उसे जान से मारने की कोशिश भी की। इसके अलावा उसके खिलाफ एक अन्य डाॅ. अनु ने भी शिकायत दर्ज कराई थी। पुलिस मनीष की तलाश में तभी से लगी थी। हालांकि मनीष 2008 में भी एक केस में गिरफ्तार हो चुका था, लेकिन किसी तरह तब वह छूट गया और यह धंधा करने लगा।


by
सिटी तहलका

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *