देव मलिक के बाद अब अर्चना गुप्ता ने दी इस्तीफे की धमकी, भाजपा में हड़कंप

dev malik, bjp panipat party se istifa diya
करनाल पानीपत म्हारा हरियाणा राजनीति रोहतक विशेष स्टोरी

ज्यों-ज्यों चुनाव नजदीक आते जा रहे हैं, पानीपत की भाजपा में आंतरिक कलह और गुटबाजी तेज हो गई है। इसी गुटबाजी के चलते बुधवार को भाजपा युवा मोर्चा के पूर्व जिला अध्यक्ष व पार्टी के कई अन्य पदों पर रह चुके जिला पार्षद देव मलिक ने पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा देकर पार्टी को बाय-बाय कर दिया। वहीं, दूसरी ओर महिला मोर्चा की जिलाध्यक्ष डॉक्टर अर्चना गुप्ता ने एक व्हाट्सएप ग्रुप पर इस्तीफे का बात कर जिला भाजपा में सनसनी मचा दी है। देर रात पानीपत के सर्व संगठन सेवा संस्थान नामक व्हाट्सएप ग्रुप में डॉ. अर्चना गुप्ता ने लिखा कि ’संजय जी इज राइट इन हिज एवरीथिंग’। इसके आगे उन्होंने ये भी लिखा कि ’आई एम नाॅट सुटेबल फाॅर पाॅलिटिक्स सो विल रेजीगनेशन सून’।

अर्चना गुप्ता से उनके इस कदम से पानीपत की भाजपा में हड़कम्प मच गया। लोग कयास लगा रहे हैं कि जिस संजय नाम के  व्यक्ति का जिक्र किया गया है, वो नाम पार्टी के बड़े नेता व प्रदेश महामंत्री संजय भाटिया का है या किसी और का। इस बारे में जब पार्टी के प्रदेश महासचिव संजय भाटिया से बात की गई तो उनका कहना था कि यह उनका काॅमेंट नहीं है। वे इस गु्रप से जुड़े भी नहीं हैं। काॅमेंट तो देर की बात है। वैसे भी वे आज सीएम मनोहर लाल के साथ हिसार में हैं। काॅमेंट करने वाला कोई और संजय है। वहीं, जब भाजपा की महिला मोर्चे की जिला अध्यक्ष अर्चना गुप्ता से संपर्क किया गया तो उन्होंने नो कॉमेंट्स बोलकर चुप्पी साध ली।

इस न्यूज़ की वीडियो देखने के लिए नीचे क्लिक करें।

 

 

देव मलिक ने लगाए जिलाध्यक्ष विज पर आरोप: उधर, देव मलिक ने पार्टी से इस्तीफा देते समय पार्टी व पानीपत अध्यक्ष प्रमोद विज पर कोई गंभीर आरोप लगाए।उन्होंने भाजपा को व्यापारियों की पार्टी की संज्ञा देते हुए कहा कि आने वाले समय में भाजपा की दुर्गति होगी।देव मलिक ने  कहा कि पार्टी में सिर्फ धनाढ्य लोगो का कब्जा है। उन्होंने कहा कि उनके आलावा अमित मक्कड़ कार्यकरिणी सदस्य, पूर्व महामंत्री सुरेश कुमार शहर मालपुर ने भी इस्तीफा दिया। मलिक ने कहा जल्द सेकड़ो लोग भी इस्तीफा देंगे।

 इन सब बातों से पता चलता है कि स्थानीय भाजपा में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है। पानीपत नगर निगम के चुनाव बिल्कुल नजदीक हैं। वहीं, इस दौरान भाजपा अंतर्कलह सड़कों पर आना भाजपा के लिए शुभ लक्षण नहीं है। अर्चना गुप्ता इस्तीफा देंगी या उन्हे मना लिया जाएगा, यह तो भविष्य के गर्भ में है, लेकिन एक बात तो तय है कि भाजपा के अंदर ही अंदर असंतोष की ज्वाला भभक रही है।


by
सिटी तहलका
प्रदीप रेड़ू

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *