डीसी सुमेधा ने कहा, गणित व हिन्दी मात्रा के ज्ञान का स्तर ऊंचा उठाने के लिए पढ़ाया जाएगा बच्चों को 

डीसी सुमेधा ने कहा, गणित व हिन्दी मात्रा के ज्ञान का स्तर ऊंचा उठाने के लिए पढाया जाएगा बच्चों को 
पानीपत सामाजिक

पानीपत की डीसी सुमेधा कटारिया ने समालखा और इसराना में सक्षम अध्यापकों को लघु सचिवालय में बुधवार को सम्बोधित करते हुए कहा कि कक्षा चैथी, छटी और आठवीं के मूल गणित और हिन्दी मात्रा के ज्ञान को ऊंचा उठाने के लिए शिक्षा विभाग की सक्षम योजना के तहत बच्चों को पढ़ाया जाएगा। इन्हें जोड़, घटा, भाग, गुणा इत्यादि के तौर तरीकों को सिखाने के लिए एक सक्षम अध्यापक को केवल पांच या छह बच्चों को साथ लेकर स्कूल प्रांगण में ही पढ़ाया जाएगा। यही नहीं, इनका स्तर जांचने के लिए सरकार 22 मई को इनका थर्ड पार्टी ऑडिट भी कराएगी, जोकि हैदराबाद की एक एजेंसी इन बच्चों का एक टेस्ट लेगी जो इनके बौद्धिक स्तर की जांच करेगी। प्रायः यह देेखने में आ रहा है कि स्कूलों में बच्चे अगली से अगली कक्षाओं में उत्र्तीण होकर चले जाते रहते हैं, लेकिन बड़ी कक्षाओं मेें जाने के बाद भी वे बेसिक ज्ञान से वंचित रह जाते हैं, जिनका खामियाजा उन्हें बाद में उठाना पड़ता है।

कई बार इसी मूलभूत ज्ञान के बिना उनके भविष्य पर प्रश्न चिन्ह लग जाता है। इसी से उबारने के लिए सरकार ने नई योजना शुरू की है। यह योजना पानीपत जिला के समालखा और इसराना खण्ड के लिए प्रथम चरण में होगी। इससे पूर्व में यह योजना चरखी-दादरी, रेवाड़ी और झज्जर में अच्छी तरह से सफल हो चुकी है। उपायुक्त सुमेधा कटारिया ने समालखा और इसराना में सक्षम अध्यापकों को लघु सचिवालय में बुधवार को सम्बोधित करते हुए कहा कि आप सभी को शैक्षणिक और सामाजिक दृष्टिकोण से विशेष तौर पर लक्ष्य निर्धारित कर यह कार्य सौपा गया है। आपको उन बच्चों के बचपन में ऊतरना है जो पिछले वर्ष कक्षा तीन, पांच व सात को उत्र्तीण कर चुके हों और वर्तमान में कक्षा चार, छंः व आठ में आ चुके हों।

डीसी सुमेधा ने कहा, गणित व हिन्दी मात्रा के ज्ञान का स्तर ऊंचा उठाने के लिए पढाया जाएगा बच्चों को उन्होंने कहा कि कई बार देखने में आता है कि कक्षा छटी और आठवीं के विद्यार्थी को दूसरी तक का भी नही आता। इसलिए इन सभी बच्चों को मूलभूत रूप से स्कूल के अन्दर ही अलग से बैठाकर पढाया जाएगा और जी-जान से इन्हें सिखाया जाएगा। इसको कतई बोझ न माने। डीसी सुमेधा कटारिया ने अपने जीवन से जुड़े कुछ पहलुओं पर भी सक्षम अध्यापकों का ज्ञान बढाया और कहा कि यदि आप अपने गुरूओं का ऋण चुकाना चाहते हैं तो यह आपके लिए सबसे अच्छा मौका है कि आप उन बच्चों को पढाई में सुदृढ बनाएं ताकि उन्हें गणित, हिन्दी की मूलभूत जानकारी हासिल हो सकें। इस मौके पर सीटीएम डा0 संजय कुमार, उप जिला शिक्षा अधिकारी राजपाल सिंह और समालखा के बीईओ बृजमोहन उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *