अब एबीबीपी के सदस्यों ने इस्तीफा देकर मचाया हड़कंप।। 7 माह से बीजेपी पानीपत में अंतर्कलह से जूझ रही

पानीपत राजनीति विशेष स्टोरी
पानीपत, 27 जुलाई।

साल 2018 का अब तक का सफर बीजीपी पानीपत के लिए किसी बुरे दौर से कम नहीं है। साल की शुरुआत से लेकर अब तक पार्टी अंतर्कलह जूझती नजर आई। शुक्रवार को इसी अंतर्रकलह की वजह से अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की प्रदेश कार्यकारिणी के 2 छात्र नेताओं यशवीर गौतम और सुनील कपूर ने इस्तीफा दे दिया है। इनके साथ एबीबीपी की मतलौडा और इसराना, पानीपत नगर की पूरी इकाई ने ही इस्तीफा देकर हड़कंप मंचा दिया है। उनका आरोप है कि इस्तीफा देने का कारण परिषद में जातिगत भेदभाव को बढ़ावा दिया जाना है।

7 महीनों में पानीपत की बीजेपी में ये हुआ 

पानीपत में बीजेपी के लिए इस साल अभी तक का सफर सिर्फ अंतर्रकलह से ओतप्रोत रहा। अप्रैल माह में जहां पानीपत के बबैल गांव में पार्टी के दलित नेताओं ने सीएम और ग्रामीण विधायक से नाराज होकर एक साथ पार्टी से इस्तीफा देकर बवाल मचा दिया था, वहीं मई में पार्टी के युवा मोर्चा के अध्यक्ष रहे देव मलिक ने पार्टी और जिला अध्यक्ष प्रमोद विज पर गंभीर आरोप लगाते हुए पार्टी से इस्तीफा दे दिया था। इतना ही उन्होंने विज को इस पद के लिए नाकाबिल तक करार दिया था। उसके बाद भी विज ने उन्हें मनाकर वापस पार्टी में शामिल किया था।  उसके कुछ घंटों बाद ही सोशल मीडिया पर महिला मोर्चा अध्यक्ष डाॅ. अर्चना गुप्ता की नाराजगी सामने आई थी। उन्होंने सोशल मीडिया पर एप भ्के जरिये इस्तीफे की बात कही थी। उसके कुछ समय बाद पार्टी से 6 साल के लिए निष्कासित चल रहे चेतन तनेजा ने देव मलिक पर कई सवाल उठाए थे। जबकि 6 साल के लिए निष्कासित होने वाले पार्टी के नेता दिनेश पुजारा ने पार्टी के वरिष्ठ नेताओं पर छोटी सोच का आरोप लगाकर भाजपा को अलविदा कर कांग्रेस का दामन थाम लिया था।

अभी तक पिछले मामले पूरी तरह शांत भी नहीं हुए थे कि 3 दिन पहले शहरी विधायक रोहिता रेवड़ी के पति सुरेंद्र रेवड़ी ऑडियो प्रकरण मामले ने न सिर्फ पानीपत की राजनीति में तूफान ला दिया, बल्कि इस प्रकरण ने पानीपत ही नहीं, प्रदेशभर में पार्टी की जमकर किरकिरी की। अभी आडियो मामले की ज्वाला भड़क ही रही है, इस बीच शुक्रवार को फिर से पार्टी को बड़ा झटका लगा है। इस बार ये झटका एबीबीपी के प्रदेश कार्यकरिकरिणी के 2 सदस्यों यशवीर गौतम और सुनील कपूर व मतलौडा इसराना, पानीपत नगर की पूरी इकाई ने इस्तीफा देकर दिया है। इससे बीजेपी में हड़कंप मच गया है।

प्रेसवार्ता कर जड़े संगठन पर आरोप 

एबीबीपी में लंबे समय से मुख्य पद पर रह चुके सुनील कपूर, यशवीर गौतम, पंकज जांगड़ा आदि सदस्यों ने शुक्रवार को प्रेस वार्ता कर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद संगठन पर बड़े आरोप जड़ दिए। प्रदेश कार्यकारिणी के सदस्य यशवीर गौतम ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद छात्रों का दुरुपयोग करता है। उन्होंने कहा कि एबीवीपी को छात्रों के हितों की कोई चिंता नहीं, अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद छात्रों को केवल चुनावी प्रचार के लिए इस्तेमाल करता है। संगठन के जिला संयोजक सुनील कपूर ने भी अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के बड़े पदाधिकारियों पर कई आरोप जड़ दिए। सुनील कपूर ने बताया कि एबीवीपी में दलित छात्र और जाट समाज के छात्रों के साथ भेदभाव किया जाता है। इसलिए ऐसे संगठन में उन्हें कोई दिलचस्पी नहीं है। इसलिए उन्होंने इस्तीफा देने का मन बनाया।


by

सिटी तहलका डेस्क

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *