सांसद के सामने भिड़े भाजपा ज़िलाध्यक्ष और विधायक पति ।। पानीपत भाजपा में फिर फूटे विरोध के स्वर

करनाल पानीपत राजनीति विशेष स्टोरी सामाजिक

पानीपत, 13 अगस्त।

लगता है पानीपत भाजपा को किसी की नज़र लग गई है। इसलिए एक के बाद एक भाजपा नेताओं के मामले उजागर हो रहे हैं। अभी विधायक रोहिता रेवड़ी के पति सुरेंद्र रेवड़ी का अश्लील ऑडियो मामले की आग ठंडी भी नहीं हुई कि अब एक नया मामला सामने आ गया है। इस बार भाजपा ज़िलाध्यक्ष प्रमोद विज और विधायक पति सुरेंद्र रेवड़ी के बीच जमकर झड़प हुई है। झड़प भी सांसद अश्वनी चोपड़ा की मीटिंग में। झड़प उस समय हुई जब रेवड़ी का एक समर्थक यश शर्मा सांसद अश्वनी चोपड़ा का स्वागत करने के लिए उनके पास तक पहुंच गया और विज ने उसका विरोध करते हुए उसे गेटआउट बोल दिया। सुरेंद्र रेवड़ी को विज का ऐसा व्यवहार उनके समर्थक के लिए पसंद नहीं आया और वे इसके लिए विज से ही उलझ गए। हालांकि इसके बाद सांसद ने झड़प को शांत करने के लिए कह दिया कि पार्टी में ऐसा होता रहता है, लेकिन ये तो वक्त बताएगा कि ये मसला आगे क्या रंग दिखाता है।

ये है मामला

दरअसल सोमवार को सांसद अश्वनी चोपड़ा पानीपत के दौरे पर थे। इस दौरान उन्होंने पीडब्ल्यूड़ी रेस्ट हाउस में एक मीटिंग आयोजित की। मीटिंग के दौरान सुरेंद्र रेवड़ी का समर्थक यश शर्मा सांसद अश्वनी चोपड़ा का स्वागत करने के लिए उनके पास पहुंच गया। ये बात ज़िलाध्यक्ष नागंवार गुजरी और उन्होंने यश शर्मा को थीखे शब्दों में कह दिया, गेटआउट। बस फिर क्या था, सुरेंद्र रेवड़ी से अपने समर्थक के प्रति ऐसा व्यवहार बर्दास्त नहीं हुआ और वे इसके लिए विज से भिड़ गए और काफी देर तक दोनों में तकरार होती रही।

आखिर क्यों कहा विज ने यश शर्मा को गेटआउट

प्रमोद विज ने बताया कि जिस यश शर्मा को उन्होंने गेट आउट बोला था, दरअसल वह लंबे समय से पीएम मोदी से लेकर मुख्यमंत्री तक के बारे में सोसल मीडिया पर अभद्र कमेंट कर चुका था। ऐसे युवक को जब उन्होंने सांसद के पास आकर स्वागत करते देखा तो उनसे रहा नहीं गया और उन्होंने यश शर्मा को इसलिए गेटआउट बोल दिया।

मामले पर ये दी सांसद ने सफाई

इस मामले पर सफाई देते हुए सांसद अश्वनी चोपड़ा ने कहा हर पार्टी में ये होता रहता है। अश्वनी चोपड़ा ने कहा कि जिला अध्यक्ष का काम समझाने का था, कोई समझेगा नहीं तो उसे खुद भुगतना पड़ेगा। अश्वनी चोपड़ा ने कहा कि जिला अध्यक्ष ने उसे हड़का दिया, अच्छा किया।


by

प्रदीप रेढू
सिटी तहलका

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *