जीएम रोडवेज का दावा, बंदरों ने लगा दी रिकाॅर्ड की लंका!

पानीपत म्हारा हरियाणा विशेष स्टोरी

सिटी तहलका, पानीपत 3 अप्रैल:-

रोडवेज जीएम दावा कर रहे हैं कि रविवार को बंदरों ने रिकाॅर्ड रूम में घुसकर जमकर उत्पाद मचाया और पुराने सारे रिकाॅर्ड की लंका लगा दी। वहीं नाम न बताने की शर्त पर विभाग के सूत्र इस घटना को संदेह की नजरों से देख रहे हैं और मामले की जांच करवाने की बात भी कर रहे हैं। जांच होनी भी चाहिए, क्योंकि विभाग के किसी कमरे में बंदर आज तक नहीं घुसे। अब घुसे भी तो रिकाॅर्ड रूम में ही क्यों। बताया जाता है कि जो रिकाॅर्ड तहस-नहस हुआ है, उसमें विभागीय कर्मचारियों और अधिकारियों की सेलरी, पेटरोल और अन्य लेखा-जोखा था। जीएम का कहना है कि रविवार को छुट्टी का दिन होने के कारण रविवार को कार्यालय में रिकाॅर्ड रूम बंद था. लेकिन एक खिडकी की जाली फटी हुई थी, बंदर उसी रास्ते से किसी तरह अंदर घुस गए और कमरे में रखा रिकाॅर्ड फाड दिया।.ऐसा पहले कभी नहीं हुआ। उन्होंने रिकाॅर्ड रूम को चैक किया तो उन्हें रूम की एक खिड़की की जाली टूटी हुई और रोशनदान खुला मिला। बात कुछ भी हो, लेकिन इस तरह विभाग के कमरे में रखे पुराने रिकाॅर्ड का पूरी तरह फटना विभाग पर कई सवाल खड़ा करता है। बता दें कि किसी भी संस्थान और विभाग के लिए पुराना रिकाॅर्ड काफी महत्वपूर्ण होता है।

              समय पर पुराने रिकाॅर्ड की जरूरत पड़ती है, लेकिन रोडवेज विभाग को शायद इससे कोई-लेना देना नहीं था। तभी रिकाॅर्ड रूम की मेंटीनेस पर आज तक ध्यान नहीं दिया गया। रिकाॅर्ड की रिकवरी अब कैसे होगी, मेंटीनेस पर पहले ध्यान क्यों नहीं दिया गया। बंदर इन दोनों जगहों से पहले क्यों नही रूम में घुसे, अब क्यों। इस पर जीएम रोडवेज ने यह कहकर पल्ला झाड़ लिया कि रिकाॅर्ड का तो देखते हैं क्या करना है, रही बात रूम के मेंटीनेस की तो किसी कर्मचारी ने खिड़की की टूटफूट और खुले रोशनदान के बारे में पहले बताया नहीं था, वरना पहले ही उसे ठीक करा दिया जाता, इसलिए यह घटना हुई। उधर विभाग के सू़त्र बताते हैं कि घटना की जांच की जाए तो काफी कुछ सामने आ सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *