विज के निर्देश, कोर्ट में विचाराधीन केस न लगाएं, नहीं होगी सुनवाई

पानीपत म्हारा हरियाणा
सिटी तहलका, पानीपत 30 मार्च।  भविष्य में आयोजित की जाने वाली जिला कष्ट निवारण समिति की बैठकों में  न्यायालयों में विचाराधीन केसों को नहीं  लगाया जाएगा और न ही उनकी सुनवाई की जाएगी। यह निर्देश शुक्रवार को लघु सचिवालय के सभागार में जिला कष्ट निवारण समिति की मासिक बैठक की अध्यक्षता करते हुए स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने दिए। उन्होंने लोगों से अपील की कि वे ऐसी शिकायतें इस पटल पर न लेके आएं जो न्यायालय में पहले से ही विचाराधीन हों। बैठक में 15 शिकायतें पटल पर रखी गईं, जिनमें से 12 शिकायतों का मौके पर ही निपटान कर दिया गया और 3 शिकायतों को अगली बैठक के लिए लम्बित रखा गया। इस बैठक में विधायक महिपाल ढांडा, रविंद्र  मछरौली, जिला भाजपा अध्यक्ष प्रमोद विज, पूर्व जिला अध्यक्ष गजेन्द्र सलूजा, उपायुक्त सुमेधा कटारिया, निगमायुक्त शिवप्रसाद शर्मा, पुलिस अधीक्षक राहुल शर्मा व अतिरिक्त उपायुक्त राजीव मेहता, एसडीएम समालखा गौरव कुमार, एसडीएम विवेक चौधरी, सीटीएम संदीप अग्रवाल, जिला परिषद के सीईओ संजय कुमार मौजूद रहे।
 विज ने कहा कि जिला कष्ट निवारण समिति जिले का सबसे सम्मानित सदन है। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे इस बैठक में पूरी तैयारियों के साथ भाग लें। जिला कष्ट निवारण समिति के पटल पर सर्वप्रथम महादेव कॉलोनी की लललिता की शिकायत रखी गई। शिकायतकर्ता ने कहा कि उसकी 14 साल की बच्ची का अपहरण कर लिया गया था, मामले में उचित कार्यवाही हुई।  स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि इस शिकायत की जांच सीबीआई से करवाने के लिए प्रदेश के मुख्यमंत्री को अनुरोध सहित लिखा जाएगा। दूसरी शिकायत चांदनी बाग सनौली रोड़ के विनोद कुमार पुनिया की थी। इस पर स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि मामला कोर्ट में विचाराधीन इस मामले पर इस सदन में कोई कार्यवाही नहीं  की जा सकती। तीसरी शिकायत चन्द्रशेखर धरनी की थी। शिकायतकर्ता मौके पर मौजूद नहीं  थे।  शिकायत को निरस्त कर दिया गया। इसी प्रकार शिकायत नम्बर 4, 5 व 6 का मौके पर ही निपटान कर दिया गया। शिकायत नम्बर 7 तहसील कैम्प की सुरजीत कौर ने की थी।  इस विज ने कहा कि मामले में जो शपथ पत्र दिया गया है, उसकी जांच उच्च स्तरीय जांच समिति से करवाई जाएगी। यदि यह शपथ पत्र ठीक पाया गया तो उस क्षेत्र की पुलिस के खिलाफ भी कड़ी कार्यवाही अमल में लाई जाएगी।  सिद्धार्थ नगर निवासी जितेन्द्र कुमार की थी। इस शिकायत में शिकायतकर्ता ने मांग की थी कि दोषी ने धोखे से उसके एटीएम के माध्यम से उसके बैंक खाते से 2 लाख रूपये निकाल लिए हैं और पुलिस ने समय पर कार्यवाही अमल में नही लाई है। इस पर अध्यक्ष ने इस मामले की जांच सीआईए से करवाने के निर्देश दिए और भविष्य में घटना के तुरन्त बाद एफआईआर दर्ज करने के निर्देश पुलिस अधिकारियों को दिए।  शिकायत नम्बर 9 में रामकिशन अहर ने शिकायत की थी कि उनका एक विवाद न्यायालय में चल रहा है और दूसरे पक्ष के लोग उसे बार-बार धमकी देते हैं,  पुलिस भी इनके खिलाफ कार्यवाही नही करती। इस पर अध्यक्ष ने पुलिस विभाग को निर्देश दिए कि इसकी जांच डीएसपी से करवाई जाए। शिकायत नम्बर 10 में शिकायत की थी कि नगर निगम पानीपत ने 1 करोड़ 95 लाख 62 हजार 570 रूपये गलत सम्पत्ति-कर उनकी प्रोपर्टी पर लगा दिया है और सुनवाई से पूर्व इसकी आधी रकम जमा करने का निर्देश दिया है और वे इतनी बड़ी रकम देने में असमर्थ है। इसलिए उन्हें न्याय दिलवाया जाए। अध्यक्ष ने कहा कि इसके लिए पहले सक्षम अधिकारी के समक्ष अपील पेश की जाए, यदि सम्बंधित अधिकारी उनके मामले में कार्यवाही नहीं  करते तभी इस बैठक में सुनवाई की जा सकती है। मंत्री ने शिकायतकर्ता की मांग पर बिल देने के निर्देश भी दिए। अगली शिकायत सरदार गुरदीप सिंह ने की थी कि हुडा के सभी सैक्टरों से झाडिय़ां कटवाई जाएं । इस पर अधिकारियों ने बताया कि झाडिय़ां कटवाई जा रही हैं । अगली शिकायत अंसल के वीरेन्द्र शर्मा की थी। इस पर अध्यक्ष ने कहा कि यह मामला कोर्ट में विचाराधीन है। इस पर कोई कार्यवाही नहीं की जा सकती है। अगली शिकायत प्रेम कुमार रिफाइनरी की थी, जिस पर अध्यक्ष ने अधिकारियों को उचित कार्यवाही के निर्देश दिए।  शिकायत न: 14 गांव डाहर की पूर्व सरपंच शांति देवी की थी, इस मामले के शीघ्र समाधान के लिए स्वास्थ्य मंत्री के निर्देशों पर एडीसी पानीपत की अध्यक्षता में एक पांच सदस्यीय कमेटी का गठन किया गया है, जो अपनी रिपोर्ट अगली बैठक में प्रस्तुत करेगी। इसी प्रकार गांव अधमी के सूरजभान ने शिकायत की थी कि सरपंच अपने पद का दुरूपयोग कर रहा है और उसने गांव की फिरनी पर अपने चहेतों का कब्जा करवा दिया है। इस पर अध्यक्ष ने उचित कार्यवाही करने के निर्देश जिला प्रशासन को दिए। बैठक में सम्बन्धित विभागों के सभी अधिकारी व जिला कष्ट निवारण समिति के सदस्य मौजूद रहे।

????????????????????????????????????
????????????????????????????????????
????????????????????????????????????

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *