दलित समाज के लोगों ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले के विरोध में आज भारत बंद

देश पानीपत

सिटी तहलका, पानीपत 2 मार्च:

दलित समाज के लोगों ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले के विरोध में आज भारत बंद के आहवान पर सुबह 10 बजे खुलने से पहले ही पूरी तरह पानीपत के बाजार बंद करा दिए. उन्होंने प्रदर्शन की शुरूआत सनौली रोड पर नई सब्जी मंडी स्थित शिव चैक से की. यहां से सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए संजय चैक पहुंचे और जोरदार प्रदर्शन किया. प्रदर्शन में हर क्षेत्र से समाज के लोगशामिल होते जा रहे थे, जीटी रोड पहुंचते-पहुंचते इनकी संख्या हजारों तक पहुंच गई. यहां से जुलूस के रूप में प्रदर्शन करते हुए लघु सचिवालय तक पहुंचे और दोनों तरफ से जीटी रोड जाम कर दिया. ज्यादातर रोड के दानों साइडों में खडे हो गए और कुछ रोड पर लेट गए. देखते ही देखते जीटी रोड पर दोनों साइडों पर कई किलोमीटर का जाम लग गया. एक भी वाहन को उन्होंने आगे नहीं जाने दिया. इससे वाहन चालकों को बहुत ज्यादा परेशानी का सामना करना पडा. चूंकि बाजार पूरी तरह बंद थे, इसलिए काफी दुपहिया वाहन चालक तो बाजारों से निकल गए.

लेकिन बडे वाहन चालक कई घंटे जाम में फंसे रहे. सबसे ज्यादा परेशानी स्कूलों की बसों में बैठे बच्चों को हुई. वे भी कई घंटे भूखे-प्यासे जाम में फंसे रहे. हालांकि पुलिस बल तैनात रहा, लेकिन मूक दर्शक बन जाम का तमाशा देखता रहा. यही नहीं, प्रदर्शनकारियों ने एलीवेटेट हाइवे को भी नहीं छोडा. उसको भी पूरी तरह जाम कर दिया. दोपहर 2 बजे तक नेशनल हाइवे 1 पर दिल्ली और करनाल लेन पर करीब 15 किमी का जाम लग. रोड पर पूरी तरह दलित समाज के लोगों का कब्जा हो गया. गया था. प्रदर्शनकारी दोपहर बाद 4 बजे तक भी जाम खोलने को तैयार नहीं थे. जाम के चलते दूसरे समाज के लोगों और वाहन चालकोंमें हाहाकार मच गया. शम चार बजे पानीपत प्रदर्शनकारियों ने पानीपत को चारों ओर से सील कर दिया, न बाहर का कोई अंदर आ सकता था, न पानीपत से कोई वाहर जा सकताथा; एसपी भी पुलिस बल के साथ जाम खुलवाने की कोशिश में लगे थे, लेकिन प्रदर्शनकारी उनकी कोई बात सुनने को तैयार नहीं थे. बाद में डीसी, एसडीएम और पुलिस के आला अधिकारियों ़द्वारा प्रदर्शनकारियों से बात करने के बाद 13 अप्रैल तक का अल्टीमेटम देकर करीब 4 बजकर 20 मिनट पर जाम खोला गया. जाम खुलने के बाद यातायात सुचारू हुआ, तब जाकर वाहन चालकों ने राहत की सांस ली.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *